The Five Orange Pips

About Book

जब मै अपने नोट्स और सन 82 से 90 के दौरान शर्लाक होम्स के केसों का रिकार्ड्स देखता हूँ, तो मेरे माइंड में ऐसे कई केस आते है जो अपने आप में बेहद अजीबो-गरीब और इतने दिलचस्प थे कि किसे याद रखे और किसे छोड़े, ये डिसाइड करना मुश्किल हो जाता है. हालाँकि कुछ केसेस ऐसे थे जिन्हें न्यूज़पेपर के थ्रू काफी पब्लिसिटी मिली थी जबकि कुछ ऐसे भी थे जिन्हें सोल्व करने के लिए उस लेवल का दिमाग नहीं चाहिए था जिस लेवल का इंटेलीजेन्स मेरे फ्रेंड होम्स के अंदर है,

हाँ ये और बात है कि पेपर्स में इन किस्सों की भी बढ़-चढ़के चर्चा हुई थी. वैसे होम्स के सामने ऐसे भी केसेस आये थे जिसने उसका दिमाग हिला रख दिया था, जो बिना किसी कन्क्ल्यूजन के ही खत्म हो गये थे जबकि कुछ केसेस एकदम क्रिस्टल क्लियर की तरह साफ़ थे, उनके बारे में कोई भी शक और अंदाजा लगा सकता था, उनमे ना किसी लोजिकल प्रूफ की जरूरत थी और ना ही ज्यादा दिमाग खपाई की जोकि मेरे फ्रेंड को बड़ी पसंद थी. खैर, इनमे से एक लास्ट केस ऐसा भी था जो बेहद अनोखा और आखिर में इतना चौंकाने वाला था कि मै इसके बारे में बताने से खुद को रोक नही पा रहा, बावजूद इसके कि इस केस में कुछ ऐसे पॉइंट्स थे जो ना तो कभी क्लियर हो पाये थे और शायद ना ही कभी होंगे. 


साल 87 की बात है, इस साल हमारे पास एक के बाद एक कई केसेस आये थे, कोई कम तो कोई ज्यादा दिलचस्प. मैंने इन सब केसेस का रिकॉर्ड बना रखा है. इन बारह महीनो के रिकार्डेड केसों में से एडवेंचर पाराडोळ चैम्बर के केस अमेटर मेंडीकेंट सोसाईटी (Paradol Chamber, of the Amateur Mendicant Society) का केस जिनका फर्नीचर वेयरहाउस के ग्राउंड फ्लोर पर एक बड़ा ही शानदार क्लब है, जहाज कंपनी ब्रिटिश बर्कुए सोफी एंडरसन जोकि उफ्फा आईलैंड के ग्रिचे पैटरसंस के अपने पहले ही एडवेंचर में हादसे का शिकार हो गयी थी, और आखिर में केम्बरवेल पोइजनिंग केस काफी हैरान करने वाले रहे थे.

  लास्ट वाले में खासकर शेर्लोक होम्स ने डेड मेन की घड़ी से ही पता लगा लिया था कि उसकी मौत दो घंटे पहले हो चुकी है, जिसका मतलब था कि विक्टिम उसी दौरान सोने के लिए गया था- दरअसल इस केस को सोल्व करने में टाइम का सही अंदाजा लगाना काफी इम्पोर्टेंट था. ये सब शायद मै कभी फ्यूचर में डिटेल्स के साथ शेयर करूं पर इनमे से कोई भी उतना स्ट्रेंज नहीं लगा जितना कि ये वाला है, जिसके बारे में अब मै डिसक्राइब करने जा रहा हूँ. 


ये सितम्बर के आखिरी दिनों की बात थी. समुंद्र में जोरो का तूफ़ान आया हुआ था.   दिनभर जोरो की हवा चलती थी. और खिडकियों पर बारिश की बूंदे बड़ी तेज़ आवाज़ के साथ गिरती थी. मौसम इतना खराब था कि हम लंदन जैसी ग्रेट सिटी में रहते हुए हमे ये एहसास होता है कि जिंदगी में रोजमर्रा के अलावा भी कई और ऐसी चीज़े है जो हमारे कण्ट्रोल के बाहर है. कुदरत इंसान से कहीं ज्यादा ताकतवर है और कई बार उसे इस कदर हैरान और परेशान कर देती है जैसे पिंजरे में बंद कोई जंगली जानवर जो आसानी से काबू में नही आता.

 जैसे-जैसे शाम हो रही थी, तूफ़ान और भी खतरनाक और तेज़ होता जा रहा था. हवा की आवाज़ ऐसे लगती थी जैसे रात के वक्त कोई बच्चा सुबक-सुबक कर रो रहा हो. शर्लाक होम्स फायरप्लेस के पास    एक कोने में बैठा अपने रिकार्ड्स ऑफ़ क्राइम पर क्रोस इंडेक्स कर रहा था जबकि मै दुसरे कोने में बैठा क्लार्क रुस्सेल की बेस्ट सी स्टोरीज़ पढ़ रहा था कि तभी तूफ़ान के गरजने की आवाज़ मेरे कानो से टकराई और झमाझम बारिश की बूंदे गिरने लगी. मेरी वाइफ अपनी माँ के घर गयी हुई थी इसलिए कुछ दिनों के लिए मै अपने बेकर स्ट्रीट वाले पुराने घर में एकदम अकेला था. 

“क्यों”? मैने अपने साथी यानी होम्स की तरफ देखते हुए पूछा” लगता है किसी ने बैल बजाई है. रात के वक्त कौन हो सकता है? तुम्हारा कोई फ्रेंड तो नहीं आया?’ 

“तुम्हारे सिवा मेरा कोई और दोस्त नही है, और मेहमानो से मै दूर ही रहता हूँ” होम्स ने जवाब दिया. 
“तो फिर कोई क्लाइंट होगा?’ 

“ऐसी बात है तो फिर कोई सिरियस केस होगा. वर्ना इतनी रात गए कौन आएगा? पर मुझे लगता है शायद मकान मालकिन का कोई खास दोस्त होगा. 

पर शेर्लोक होम्स का अंदाजा गलत निकला. पैसेज में किसी के कदमो की आहट सुनाई दे रही थी और दरवाजा खटखटाने की आवाज़ भी आ रही थी. उसने अपना हाथ बढ़ाकर लैंप की रौशनी खाली चेयर पर डाली जिस पर मेहमान बैठने वाला था. 

“आ जाओ!” होम्स ने जवाब दिया. 

एक हैण्डसम और गुडलुकिंग बीस-बाईस साल का दिखने वाला नौजवान अंदर आया जो अपने कपड़ो और हाव-भाव से अच्छे घर का लग रहा था. उसने हाथ में एक छाता पकड़ा हुआ था जिससे बारिश का पानी बह रहा था, और उसके लंबे वाटरफ्रूफ कोट की हालत देखकर साफ पता चलता था कि बाहर का मौसम किस कदर खराब था. उसने थोड़ी उत्सुकता से लैंप की रौशनी में होम्स की तरफ देखा. मैंने उस लड़के की तरफ गौर से देखा. उसके चेहरे के पीलेपन और आँखों की बैचेनी देखकर लगता था जैसे वो किसी बड़ी मुसीबत में है. 


“मै आपसे माफ़ी मांगना चाहता हूँ” उसने अपना गोल्डन चश्मा आँखों पर रखते हुए होम्स से कहा. “इस वक्त आकर मैंने आपको तंग तो नहीं किया, देखिए ना मेरे कपड़े एकदम भीगे हुए है, आपके रूम में पानी-पानी हो गया’
”  
“कोई बात नहीं, लाइए मुझे अपना कोट और छाता दे दीजिए” होम्स बोला. “मैं इन्हें यहाँ टांग देता हूँ, थोड़ी देर में खुद सूख जाएंगे. आप साउथ वेस्ट की तरफ से आये है ना?’ 

“हाँ, होर्श्म से” (Horsham.” ) उसने जवाब दिया. 

“दरअसल आपकी कैप में मिट्टी और चाक दूर से ही दिख रही है इसलिए मैंने अंदाजा लगाया”
“मै आपके पास एक एडवाइस लेने आया हूँ” 

“वो तो आपको आराम से मिल जायेगी” होम्स बोला 

“और मदद?’ 

“वो हमेशा इतनी ईजीली नहीं मिलती” 

“पर मैंने आपका काफी नाम सुना है मिस्टर होम्स. मैंने मेजर प्रेंडरगास्ट (Major Prendergast ) से आपकी बड़ी तारीफ सुनी है कि कैसे आपने उन्हें टैंकर विले क्लब स्कैंडल में बचाया था” 

“आह, याद आया, उन्हें कार्ड्स की चीटिंग में गलत फंसाया गया था” 

“उनका कहना है कि आप कोई भी केस सोल्व कर सकते हो.” 

“अरे नहीं! वो कुछ ज्यादा ही बोल रहे है” 

“और उन्होंने ये भी कहा कि आपको कोई हरा नही सकता” 

“ऐसा नहीं है, मै चार बार हारा हूँ- तीन बार आदमियो से और एक बार एक औरत से” I 

“लेकिन जिस हिसाब से आपने केस सोल्व किये है, इतना तो चलता है” 

“हाँ ये बात सच है कि मैंने ज्यादातर केस सोल्व किये है” 

Puri Kahaani Sune.....

Chapters

Add a Public Reply