The Adventure of the Engineer's Thumb

About Book

हमारी करीबी दोस्ती के दौरान, मेरे दोस्त शरलॉक होम्स के सामने जितने भी केस आये, उनमें से सिर्फ दो ही मेरे द्वारा उसके सामने लाये गए थे, जिसमे से एक था मिस्टर हैदर्ली का अंगूठा और दूसरा कर्नल वॉरबटन का पागलपन. इनमें से दूसरा वाला ज्यादा मुश्किल था, लेकिन पहले वाला इतना अजीब और ड्रामेटिक था कि शायद उसे रिकॉर्ड में लाना ज्यादा जरूरी है, यहाँ तक की इसने मेरे दोस्त को भी बहुत कम सुराग दिए, उसके उस जासूसी हुनर के बावजूद जिसकी बदौलत उसे अच्छे परिणाम मिले हैं।

मुझे लगता है कि इस कहानी को एक से ज्यादा बार अखबार में छापा गया है, लेकिन, ऐसी कहानियाँ एक पेज पर आधे कॉलम में छपने से उस तरह असरदार नहीं होतीं जिस तरह तब होती है जब फैक्ट्स धीरे धीरे आपके सामने आते है, और जैसे जैसे नयी जानकारी आपको पूरे सच की तरफ लेकर जाती है वैसे वैसे रहस्य से पर्दा गिरने लगता है। उस वक्त के हालात ने मुझपर एक गहरा असर छोड़ा है और दो साल होने के बाद भी उसका असर काम नहीं हुआ है। 

ये 89’ की गर्मियों की बात है, मेरी शादी को ज्यादा समय नहीं हुआ था, जब वे घटनायें हुई जिनके बारे में मैं आपको अभी बताने वाला हूँ। मैं अपनी सिविल की प्रैक्टिस के लिए लौट आया था और होम्स को उसके बेकर स्ट्रीट वाले घर में छोड़ आया था, हालांकि मैं उससे मिलने जाता रहता था और कभी कभी मैं उसे उसकी Bohemian वाली आदतों को छोड़ने और हमसे आकर मिलने के लिए बोलता था. मेरी प्रैक्टिस बढ़ गयी थी और क्योंकि मैं पैडिंगटन स्टेशन से ज्यादा दूर नहीं रहता था, मेरे पास वहाँ के कई अफसर भी इलाज के लिए आते थे। उनमे से एक ऐसा आदमी था, जिसका मैंने लंबे समय से चल रही एक दर्दनाक बीमारी का इलाज किया है, वह कभी भी मेरी तारीफ करते थकता नहीं था और हर उस पीड़ित इंसान को मेरे पास भेजता, जिसे वह भेज सकता था। 

एक सुबह, सात बजने से थोड़ा पहले, मैं नींद से उठा गया जब मेरी मेड ने दरवाज़ा खटखटाया और बताया कि पैडिंगटन स्टेशन से दो आदमी आये हैं और वे कंसल्टिंग रूम में मेरा इंतज़ार कर रहे है। मैंने जल्दी से कपड़े पहने और नीचे गया, क्योंकि मेरे अनुभव की वजह से मुझे पता था कि रेलवे के केस कभी भी मामूली नहीं होते। जैसे ही मैं नीचे उतरा, मेरा पुराना सहयोगी, गार्ड, कमरे से बाहर आया और अपने पीछे का दरवाज़ा कस कर बंद कर दिया।
“मैं उसे यहाँ ले आया हूँ,” उसने अपने अँगूठे को अपने कंधे पर रखते हुए धीरे से कहा; “वह ठीक है।”

“तो फिर क्या बात है?” मैंने पूछा, क्योंकि उसे देख कर लग रहा था जैसे उसने किसी अजीब से प्राणी को मेरे कमरे में बंद कर रखा है।
“यह एक नया मरीज़ है,” उसने धीरे से कहा। “मैंने सोचा उसे खुद ही यहाँ ले आऊं; ताकि वो भाग ना सके। यहाँ है वो, पूरी तरह सही सलामत। अब मुझे चलना चाहिए, डॉक्टर; मुझे भी आपकी तरह अपने काम पर जाना है।” और वह भरोसेमंद इंसान चला गया, बिना मुझे थैंक यू बोलने का मौका दिए।

मैं अपने कंसल्टिंग रूम के अंदर गया और एक आदमी को वहाँ बैठे हुए देखा. उसने एक heather tweed का सूट पहना हुआ था, साथ में एक मुलायम कपड़े की कैप, जिसे उसने मेरी किताबों के ऊपर रखा हुआ था। उसने अपने एक हाथ पर रूमाल बाँधा हुआ था, जो पूरी तरह खून से सना हुआ था। वह जवान था, मेरे ख्याल से है 25 साल का होगा, उसका चेहरा मजबूत और मर्दाना था; लेकिन वो बिलकुल मुरझाया हुआ लग रहा था और ऐसा लग रहा था मनो जैसे कोई आदमी बड़ा बेचैन और तकलीफ में हो, और अपनी सारी ताकत लगाकर उसे सहन कर रहा हो।

“इतनी सुबह-सुबह आने के लिए माफ़ी चाहता हूँ, डॉक्टर,” उसने कहा, “लेकिन कल रात मेरे  साथ एक बहुत बुरा हादसा हुआ। मैं सुबह ट्रैन से आया, और जब मैंने पैडिंगटन स्टेशन पर पूछा की आस पास कोई डॉक्टर कहाँ मिलेगा, तब एक सज्जन आदमी मुझे यहाँ छोड़ गए. मैंने मेड को एक कार्ड दिया था, लेकिन मुझे लगता है उसने वो साइड वाली टेबल पर ही छोड़ दिया।” 

मैंने वह कार्ड उठाया और देखा। “मिस्टर विक्टर हैथरली, हाइड्रोलिक इंजीनियर, 16A, विक्टोरिया स्ट्रीट (3rd फ्लोर).” ये मेरे सुबह के मेहमान का नाम, पेशा और पता था। “माफ़ी चाहता हूँ, मैंने आपको इंतज़ार करवाया,” मैंने अपनी लाइब्रेरी-चेयर पर बैठते हुए कहा। “मैं समझता हूँ कि आप अपनेपनी रात के सफर से सीधा आये है, और मैं जनता हूँ, यह बड़ा बोरिंग हैं।”

“ओह, मेरी रात को बोरिंग नहीं कह सकते,” वह बोला और हंस पड़ा। वह अपनी चेयर पर झुकते हुए और खुद को हिलाते हुए वह जोर से हंसा। इस हंसी को देखकर मेरा सारा मेडिकल का ज्ञान जाग गया.
“रुक जाओ ! मैं चिल्लाया; “अपने आप को संभालो!” मैंने जग में से थोड़ा पानी निकला.

हालांकि, इससे कुछ फर्क नहीं पड़ा। उसे एक ऐसे पागलपन का दौरा पड़ा था जो किसी बड़े संकट के आने और उसके गुजर जाने के बाद होता है। कुछ देर बाद वह अपने असल रूप में आया, थका और सुस्त चेहरा लिये।
“मैं खुद को बेवक़ूफ़ बना रहा था,” वह हांफते हुए बोला। 
“बिलकुल भी नहीं। इसे पी लो।” मैंने पानी में थोड़ी ब्रांडी मिलाई, और उसे पीने के बाद उसके मुरझाये चेहरे पर थोड़ी रंगत आयी। 
“अब ठीक है!” उसने कहा। “और अब, डॉक्टर, शायद आपको मेरा अंगूठा देखना चाहिए या कहो की उस जगह को जहाँ अंगूठा हुआ करता था।” 

उसने अपना रूमाल हटाया और अपना हाथ निकाला। उसे देखकर मेरा मजबूत दिल भी दहल गया. वहाँ चार उभरी हुई उँगलियाँ थी और एक भयंकर लाल, स्पंजी जगह जहाँ अंगूठा होना चाहिए था। उसे या तो काटा गया था या फिर जड़ से उखाड़ा गया था. 
“हे भगवान!” मैं चिल्लाया, “ये बहुत गहरा जख्म है। जरूर बहुत खून बहा होगा।”

“हाँ, बहा था। उसके बाद मैं बेहोश हो गया था और मुझे लगता है मैं काफी देर तक होश में नहीं था। जब मुझे होश आया, मैंने देखा कि तब भी खून बह रहा था, इसलिए मैंने इसे अपने रूमाल से कसकर कलाई पर बाँध लिया और इसे एक लकड़ी का सहारा दे दिया।”
“बहुत अच्छा! आपको एक सर्जन होना चाहिए था.”
“देखो, ये हाइड्रोलिक्स की बात है और यह मेरे काम के दायरे में ही आता है।”
“ये एक बहुत भारी और नुकीली चीज से हुआ है।” घाव को देखते हुए मैंने कहा. 

“एक बड़े चाकू जैसी चीज से,” उसने कहा.
“मुझे लगता है ये एक एक्सीडेंट है। है ना?”
“बिलकुल भी नहीं।”
“क्या! एक जानलेवा हमला?”
“हाँ बिल्कुल।”
“आप मुझे डरा रहे हो।”
मैंने उस घाव को साफ किया, दवाई लगाई और आखिर में रुई से उसे ढका और पट्टी से बांध दिया. वह बिना हिले पीछे बैठा रहा, बस कभी कभी अपने होठ काट लेता था। 
“कैसा लग रहा है?” मैंने अपना काम पूरा करके पूछा। 
“बहुत अच्छा! आपकी ब्रांडी और पट्टी के बाद, मैं एक नए इंसान जैसा महसूस कर रहा हूँ. मैं बहुत कमजोर था, लेकिन मुझे एक अच्छी डील मिली थी.”
“शायद अभी आपको उस मामले के बारे में नहीं बात करनी चाहिए। ये बात जरूर तुम्हे बहुत परेशान कर रही है।”


“अरे नहीं, अब नहीं। अब शायद मुझे ये सब पुलिस को बताना पड़ेगा; लेकिन ये हम दोनों के बीच की बात है, अगर मेरा घाव इतना गहरा नहीं होता तो, मुझे लगता है वे मेरी बात नहीं मानते, क्योंकि ये बहुत असाधारण सी बात है और इसे साबित करने के लिए मेरे पास ज्यादा सबूत भी नहीं है; और अगर वो मेरी बात मान भी ले, तो जो भी सबूत मैं उनको दूंगा वो इतने साफ़ नहीं है की मुझे लगता इंसाफ हो पायेगा।”


“हा! मैंने कहा, “अगर यह कोई  ऐसी मुश्किल है जिसे आप हल करना चाहते हैं, तो पुलिस के पास जाने से पहले मैं आपको अपने दोस्त मिस्टर शरलॉक होम्स  के पास जाने की सलाह दूँगा.”
“ओह, मैंने उनके बारे में सुना है,” उसने जवाब दिया, “और मुझे बेहद ख़ुशी होगी अगर वे इस मामले को अपने हाथ में लें, हालांकि, मुझे पुलिस के पास भी जाना होगा. क्या आप मुझे उनसे मिलवा सकते हैं ?”

“हाँ बिलकुल.  मैं तुम्हें खुद उनके पास लेकर जाऊँगा।”
“मैं आपका एहसानमंद रहूँगा.”
“हम कैब बुला लेते हैं और साथ चलते हैं। हम उनके साथ नाश्ता करने के लिए समय से पहुंच जायेंगे। क्या आप अभी चल पाएंगे ?” 
“हाँ; जब तक मैं उन्हें अपनी कहानी नहीं बता देता, मुझे चैन नहीं आएगा।” 
“फिर तो मेरा नौकर कैब बुला लेगा और मैं तुरंत आपके पास आता हूँ.” मैं भागकर ऊपर गया, अपनी पत्नी को जल्दी से कहानी बताई और पांच मिनट के अंदर हम कैब में थे, और मैं एक नए मेहमान के साथ बेकर स्ट्रीट के लिए चल पड़ा. 

शेरलॉक होम्स मेरी उम्मीद के मुताबिक, ड्रेसिंग गाउन पहने अपने सिटिंग-रूम में आराम से अख़बार पढ़ता हुआ, ब्रेकफास्ट से पहले वाली पाइप पी रहा था,  जो उसके कल के बचे हुए सिगार के टुकड़ों से बना हुआ था। उसने शांति से अपने मिलनसार अंदाज में हमारा स्वागत किया, उसने ताजे अंडे और रेशर मंगाए और हमारे साथ खाना खाया। जब हमने नाश्ता कर लिया, उसने हमारे नए मेहमान को सोफे पर बैठाया, उसके सर के नीचे एक तकिया रखा, और उसके पास एक ब्रांडी और पानी से भरा क्लास रख दिया।  

Puri Kahaani Sune...

Chapters

Add a Public Reply