MIDNIGHT IN CHERNOBYL: THE UNTOLD STORY OF THE WORLD'S GREATEST NUCLEAR DISASTER

About Book

एक ऐसा शहर जहाँ 1986 के बाद से कोई नहीं रहता, जो एकदम वीरान है, सुनने में काफी डरावना लगता है, है ना?  तो फिर आपको आगे की कहानी  भी पढ़नी  चाहिए ये जानने के लिए कि आखिर क्या हुआ था इस शहर के साथ जो वहाँ  रहने वाले एक दिन अचानक अपना सब कुछ छोड़कर चले गए थे. जी हां, ये सच्ची घटना एक न्यूक्लियर पॉवर प्लांट की है जिसने एक भरे-पूरे शहर को बर्बाद कर दिया था  और  लोगों  को जान बचाकर भागने पर मजबूर कर दिया था! 

ये समरी किस-किसको पढ़नी चाहिए? 

•    साइंटिस्ट
•    हर किसी को जिसे सच्ची घटनाओं पर आधारित कहानीयां पसंद हैं  
•    नॉन फिक्शन रीडर्स को 

इस बुक के बारे में 
‘मिडनाईट इन  चर्नोबिल’  कहानी है उस बेहद खौफ़नाक न्यूक्लियर हादसे की जिसने पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया था और जो मानव इतिहास के पन्नों में हमेशा के लिए दर्ज हो चुका है. एडम  हिगिंबॉथम   अपनी  बुक के ज़रिए हमें  उस वक्त में लेकर चलते हैं  जब ये सारी घटना घटी थी. न्यूक्लियर प्लांट के साथ जो कुछ घटा था उसके कुछ ही घंटो पहले क्या हुआ था और बाद में क्या हुआ, इससे लेकर आज तक इस हादसे से जुडी तमाम बातें हैं वो आपको  इसमें पढने को मिलेंगे. इससे आप  सीखेंगे कि ये सिर्फ एक  हादसा नहीं था बल्कि एक सबक था जिसे आने वाली पीढ़ी हमेशा याद रखेगी.  

Chapters

Add a Public Reply