India After Gandhi

About Book

इण्डिया आफ्टर गाँधी” बुक में आपको लेखो का एक कलेक्शन मिलेगा. इस बुक के हर एक ऐसे या लेख को ऑथर ने काफी डीप रीसर्च करने के बाद लिखा है जिनमे 1950 से लेकर 2000 के शुरुवाती टाइम तक की इन्डियन हिस्ट्री कवर करने की कोशिश की गयी है. इसमें आपको आजादी की घोषणा से लेकर कोंस्टीटयूशन के निर्माण और पाकिस्तान के बनने तक की जानकारी मिलेगी. इस बुक में आप इण्डिया में हुए फर्स्ट जनरल इलेक्शन के बारे में भी पढेंगे और कश्मीर के कंट्रोवर्शिय्ल इश्यू के बारे में भी. अगर आप जानना चाहते है कि हमारा देश क्यों सर्वाइव करता है और इसकी पहचान क्या है तो आपको ये बुक ज़रूर पढनी चाहिए. 

ये समरी किसको पढनी चाहिए? 
स्टूडेंट्स, सिविल सर्वेन्ट्स, एसपाईरिंग पोलीटीशियंस, इण्डिया के सभी सिटीजंस और वर्ल्ड के सभी एसपाईरिंग लीडर्स को ये बुक पढनी चाहिए. 

इस बुक के ऑथर कौन है? ऑथर के बारे में. 
राम चन्द्र गुहा एक रिस्पेक्टेड हिस्टोरियन, इकोनोमिस्ट और कोलुम्निस्ट है. इण्डिया की पोलिटिकल, इकोनॉमिक, सोशल, एन्वायर्नमेंटल और क्रिकेट हिस्ट्री लिखने में वो एक एक्सपर्ट रहे है. वो हिन्दुस्तान टाइम्स, द टेलीग्राफ और अमर उजाला जैसे न्यूज़ पेपर्स में रेगुलर कोंट्रीब्यूटर रहे है. गुहा को 2009 में पद्मा भूषण मिला है जोकि इण्डिया का तीसरा सबसे बड़ा सिविल अवार्ड है. 

Chapters

Add a Public Reply