HOW TO TALK SO TEENS WILL LISTEN AND LISTEN SO TEENS WILL TALK

About Book

"टीनएजर्स सबसे बुरे और बिगड़ैल होते हैं।" "आपको तब तक मज़े ले लेने चाहिए, जब तक आपके बच्चे छोटे हैं। एक बार जब वह बड़े हो जाएँगे तो आप उन्हें कंट्रोल नहीं कर पाएँगे।" यह ऐसे कमेंट्स हैं जो बच्चों के टीनएजर होने से पहले पैरंट सबसे ज्यादा सुनते हैं।


पेरेंट्स इस  बात को नज़रअंदाज़ कर देते हैं कि टीनएजर होना बच्चों के लिए भी मुश्किल होता है। टीनएजर्स ऐसे इमोशनल और फिजिकल बदलाव एक्सपीरियंस कर रहे होते  हैं जो उन्हें खुद समझ नहीं आते। यह एक पेरेंट का काम  है कि उनके मुश्किल समय में आप उन्हें गाइड करें। परेशानी यह है कि पेरेंट्स इस बात को  सुनने से इनकार कर देते हैं। 
टीनएजर्स ज़िद्दी या बिगड़े हुए नहीं होते। उन्हें बस बेहतर कम्युनिकेशन स्किल्स की जरूरत होती है। यह समरी आपको अपने टीनएज बच्चे  की फीलिंग सुनने की स्ट्रेटेजी सिखाएगी। यह  आपको सिखाएगी कि सज़ा  देने से कैसे बचना चाहिए और कैसे अपने घर में अपने टीनएज बच्चे  के लिए एक सेफ माहौल बनाया जा सकता है। 


यह समरी किसे पढ़नी चाहिए?
* पेरेंट्स 
* गार्डियन
* टीनएजर्स 


ऑथर के बारे में 
अडेल फेबर और इलेन मज्लिश ने पेरेंटिंग के बारे में कई बुक्स लिखी हैं। वो एडल्ट चाइल्ड कम्युनिकेशन की एक्सपर्ट हैं। बुक्स के अलावा वो  वर्कशॉप और वीडियोज़ के ज़रिए भी पेरेंट्स की मदद करती हैं। अडेल और इलेन दोनों ही टीचर थीं और  तीन बच्चों की मां भी हैं। उनकी बुक्स की दुनिया भर में कई मिलियन कॉपी बिक चुकी हैं। 
 

Chapters

Add a Public Reply